व्यवस्था में “रिफॉर्म करके परफॉर्म करते हुए किया यूपी का ट्रांसफॉर्म : योगी आदित्यनाथ

बीमारू की पहचान छोड़ उभरा सक्षम और समर्थ उत्तर प्रदेश: योगी आदित्यनाथ। चार साल पूरे होने पर योगी ने जताया प्रदेशवासियों का आभार।

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश सरकार के चार साल पूरे होने पर जनता को बधाई देते हुए कहा कि बीते चार वर्षों में राष्ट्रीय पटल पर एक नया सक्षम और समर्थ उत्तर प्रदेश उभर कर आया है। चार वर्ष पहले तक देश की सबसे बड़ी आबादी होने के बाद भी बीमारू की छवि के साथ देश में पांचवे नम्बर की अर्थव्यवस्था होने का दंश झेलने वाला यूपी आज लगातार प्रयासों से दूसरे नम्बर की अर्थव्यवस्था बनकर सामने आया है।

उन्होंने कहा कि इस नए उत्तर प्रदेश में चार साल में चार लाख युवाओं को ईमानदारी से सरकारी नौकरी मिली तो यहाँ महिलाएं सुरक्षित, सम्मानित हैं और स्वावलम्बन की मिसाल बन रही हैं। यहां आस्था का सम्मान है तो माफिया और अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है। यह नया उत्तर प्रदेश निवेशकों की पहली पसंद है तो पर्यटकों के मन की चाह भी है। प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन में प्रदेश सरकार ने पूर्ववर्ती व्यवस्था में “रिफॉर्म करके परफॉर्म करते हुए और ट्रांसफॉर्म किया है।

राज्य सरकार के चार साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्रियों और शासन के उच्चाधिकारियों के साथ पत्रकारों से मुखातिब थे। लोकभवन में आयोजित इस संवाद कार्यक्रम में खास ‘सरकार की उपलब्धियों पर आधारित ‘विकास पुस्तिका ‘ का विमोचन भी किया गया। “हाथों में आइपैड लिए हाईटेक” सीएम ने कहा कि चार साल में प्रदेश के बहुमुंखी विकास में 24 करोड़ जनता का पूरा सहयोग मिला, तो केन्द्रीय और राज्य मंत्रिपरिषद के सभी सदस्यों, भाजपा नेतृत्व, पदाधिकारी और कार्यकर्त्ताओं का अभूतपूर्व मार्गदर्शन भी मिला।

सीएम ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश की सरकार अपने कार्यकाल के सफलतम 04 वर्ष पूर्ण कर रही है। इस अवधि में हम प्रदेश की छवि में सकारात्मक बदलाव लाने में सफल हुए हैं। 2017 तक यहां की बेरोजगारी दर 17 फीसदी तक थी जबकि आज 4 फीसदी है। कोविद की चुनौतियों का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में नए भारत के इस नए यूपी ने कोरोना जैसी महामारी का सामना जिस प्रबंधित ढंग से किया आज उसकी सराहना विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसे अंतरराष्ट्रीय प्लेटफार्म पर हो रही है।

सरकार के चार साल पूरे होने पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाई। लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री ने इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, कृषि, आर्थिक विकास, रोजगार, शिक्षा, चिकित्‍सा समेत अन्‍य विषयों पर सरकार की योजनाओं का खाका पेश किया।

मुख्‍यमंत्री ने गिनाई ये महत्‍वपूर्ण उप‍लब्धियां

-विगत मात्र 04 वर्षों में राज्य की अर्थव्यवस्था देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गयी। इसका आकार 10,90,000 करोड़ रुपए से बढ़कर 21,73,000 करोड़ रुपए हो गया। वर्ष 2015-16 में प्रदेश की अर्थव्यवस्था देश में 5वें-6ठें स्थान पर थी।

-विगत 04 वर्ष में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय में दोगुने से अधिक की वृद्धि हुई है। वर्ष 2015-16 में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय लगभग 45 हजार रुपए थी, जो वर्तमान में बढ़कर लगभग 95 हजार रुपए हो गई है।

-50 लाख से अधिक नई एम0एस0एम0ई0 इकाइयों की स्थापना। 02 लाख 13 हजार करोड़ रुपए से अधिक का ऋण उपलब्ध कराकर 01 करोड़ 80 लाख लोगों को रोजगार।

-आत्मनिर्भर भारत पैकेज में 12.91 लाख इकाइयों को 42,700 करोड़ रुपए का ऋण उपलब्ध कराया गया।

-प्रदेश से 01 लाख 14 हजार करोड़ रुपए से अधिक का निर्यात, जो विगत वर्ष से 25,000 करोड़ रुपए अधिक।

-परम्परागत हस्तशिल्पियों एवं कारीगरों के उत्थान के लिए ओडीओपी तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना का संचालन तथा माटी कला बोर्ड का गठन।

-ओडीओपी (एक जनपद, एक उत्पाद) सेक्टर में 8,875 करोड़ रुपए से अधिक के ऋण वितरित। 25 लाख से अधिक लोगों को रोजगार।

– रूल ऑफ लॉ की परिकल्पना को साकार कर तथा कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाकर प्रदेश भारी निवेश को आकर्षित करने में सफल रहा।

– निजी क्षेत्र में लगभग 03 लाख करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव जमीन पर उतरे, जिससे औद्योगीकरण को गति मिली तथा प्रदेश के नौजवानों के लिए 35 लाख से अधिक नौकरियां सृजित हुईं।

– ई-प्रासिक्यूशन प्रणाली लागू करने में उत्तर प्रदेश देश का अग्रणी राज्य है। गैंगेस्टर अधिनियम के अन्तर्गत 12,032 अभियोग पंजीकृत और 37,511 अभियुक्त ही गिरफ्तार हुए।लगभग 1,000 करोड़ रुपए की सम्पत्ति जब्त की गयी और ध्वस्तीकरण का कार्य भी सम्पन्न हुआ।

-70 सालों तक केवल 12 मेडिकल कॉलेज थे, विगत 04 वर्षों में 35 मेडिकल काॅलेज/संस्थानों की स्थापना का रास्ता साफ हुआ। वर्तमान में 09 नए मेडिकल कॉलेज निर्माणाधीन। 07 मेडिकल कॉलेज क्रियाशील।

– वाराणसी से हल्दिया तक 1500 किमीका देश का पहला राष्ट्रीय जलमार्ग क्रियाशील

-वर्ष 2016-17 की तुलना में वर्ष 2019-20 में डकैती में 65.72 प्रतिशत, लूट में 66.15 प्रतिशत, हत्या में 19.80 प्रतिशत, बलवा में 40.20 प्रतिशत और बलात्कार की घटनाओं में 45.43 प्रतिशत की कमी आयी।

-गेहूं, गन्ना, चीनी, आलू, हरी मटर, दुग्ध, आम, आंवला, गन्ना एवं चीनी तथा तिलहन उत्पादन में प्रथम स्थान।

-46 वर्षों से लम्बित बाण सागर परियोजना सहित विगत 03 वर्षों में कुल 11 सिंचाई परियोजनाएं पूर्ण की जा चुकी हैं, जिनसे 2.21 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त सिंचन क्षमता का सृजन हुआ तथा 2.33 लाख किसान लाभान्वित हुए।

-वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 09 परियोजनाओं को पूर्ण करने का लक्ष्य। इससे 16.41 लाख हेक्टेयर की अतिरिक्त सिंचन क्षमता सृजित होगी तथा 40.48 लाख कृषक लाभान्वित होंगे।

-45 कृषि उत्पाद मण्डी शुल्क से मुक्त किए गए। मण्डी शुल्क में 01 प्रतिशत की कमी की गई।

-प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत अब तक 232.63 लाख किसानों को 28 हजार 443 करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि डीबीटी के माध्यम से उनके खातों में हस्तान्तरित की जा चुकी है।

-मुसहर वर्ग को 38 हजार 112, वनटांगिया वर्ग को 04 हजार 779 और कुष्ठ रोग से प्रभावित परिवार को 02 हजार 115 आवास उपलब्ध कराए गए। सहरिया, कोल एवं थारू समुदाय के गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना-ग्रामीण की पात्रता श्रेणी में सम्मिलित करने का निर्णय।

-राज्य सरकार की आकर्षक निवेश नीतियों के कारण कोरोना काल में ही 56,000 करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए।

-फर्नीचर व हाउस होल्ड में दुनिया की प्रख्यात कम्पनी आइकिया द्वारा जनपद गौतमबुद्धनगर में 5,500 करोड़ रुपए का निवेश। डेटा सेंटर पार्क की स्थापना में 6,000 करोड़ रुपए का निवेश हो रहा है।

-04 वर्षों में 04 करोड़ 80 लाख से अधिक बच्चों का परिषदीय विद्यालयों में नामांकन।

– माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट की नकलविहीन परीक्षाएं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button