मिशन रोजगार: जेल वार्डर, घुड़सवार पुलिस और फायरमैन पदों के लिए 02 जुलाई को बंटेंगे नियुक्ति पत्र

5,805 अभ्यर्थियों का इंतज़ार खत्म, पूरा होगा सरकारी नौकरी का सपना, चयनित अभ्यर्थियों से सीएम योगी करेंगे संवाद, सौपेंगे नियुक्ति पत्र

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मिशन रोजगार के तहत सरकार ने कारागार और अग्निशमन विभाग में 5,805 से अधिक पदों पर चयन की प्रक्रिया पूरी कर ली है। इन दोनों ही महत्वपूर्ण विभागों में कई सालों बाद नई नियुक्तियां की जा रही हैं। शुक्रवार शाम 04 बजे कारागार विभाग में जेल वॉर्डर (महिला व पुरुष), घुड़सवार पुलिस और अग्निशमन विभाग में फायरमैन पदों पर चयनित अभ्यिर्थियों को सरकार नियुक्ति पत्र जारी करेगी। चयनित अभ्यर्थियों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संवाद भी करेंगे।

योगी सरकार लगातार युवाओं को प्राथमिकता पर सर्वाधिक सरकारी नौकरियां और रोजगार दे रही है। इस कड़ी में कारागार विभाग में जेल वार्डर पर उसने 3012 पदों पर चयन की प्रक्रिया पूरी कर ली है। जेल वार्डर पद पर 626 महिलाओं को नियुक्ति दी गई है। 102 घुड़सवार पुलिस और अग्निशमन विभाग में 2065 युवाओं को फायरमेन बनाया जा रहा है। इन सभी चयनित अभ्यर्थियों को शुक्रवार शाम को उनके नियुक्ति पत्र दिये जाएंगे।

उत्तर प्रदेश में बीते साढ़े चार सालों में निष्पक्ष और पारदर्शी प्रक्रिया से 04 लाख से अधिक युवाओं को सरकारी नौकरियां दी गईं हैं। रोजगार देने के उद्देश्य से युवाओं के लिये मिशन रोजगार चलाया गया है। स्टार्ट अप इकाइयों से 05 लाख युवाओं और बड़ी औद्योगिक इकाइयों में 03 लाख से अधिक युवाओं को रोजगार दिया जा चुका है। सरकार दिसम्बर माह तक 01 लाख और युवाओं को रोजगार देने जा रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालते ही प्रदेश के चहुमुखी विकास को गति देने के प्रयास शुरू किये। उन्होंने प्रदेश में खेत-किसान, महिला, युवा-छात्र, शिक्षा, रोजगार, उद्यमी, श्रमिक-मजदूर, स्वास्थ्य ढांचे और अवस्थापना सुविधाओं व कानून व्यवस्था को मजबूती देकर हर वर्ग के विकास को बढ़ावा दिया। योगी सरकार की दूरदृष्टि एवं विकास की अवधारणा का ही फल है कि उत्तर प्रदेश में कोविड 19 पर नियंत्रण का समुचित प्रबंध करते हुए उन्होंने इस आपदा को भी अवसर में बदल दिया। इसका परिणाम यह हुआ कि कोविड की चेन टूटती रही और रोजगार के साथ ही विकास की कड़ियां जुड़ती रहीं। आर्थिक गतिविधियां भी तेजी से चलती रहीं।

नोयडा में बनने जा रही फिल्म सिटी बनेगा रोजगार का बड़ा केन्द्र

सरकार की सकारात्मक नीतियों से उद्यम सारथी एप के माध्यम से विभिन्न स्वरोजगार कार्यक्रमों को एक मंच पर लाकर बेरोजगारों के लिये पूरी प्रक्रिया आसान की गई। मनरेगा में 1.50 करोड़ से अधिक श्रमिकों को रोजगार देने वाली सरकार बहुत जल्द नोयडा में उत्तर भारत के प्रथम डाटा सेंटर से 50 हजार युवाओं को रोजगार देने के प्रयास में जुटी है। सरकार के प्रयासों से नोएडा में बनने जा रही फिल्म सिटी निवेश और रोजगार का बड़ा केन्द्र बनने जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button