किसानों की सुविधा और छुट्टा गोवंश की देखभाल के लिए अनुपूरक बजट में खास व्‍यवस्‍था

  • सरकार ने छुट्टा गोवंश के रखरखाव के लिए रखा सरकार ने की अनुपूरक बजट में अतिरिक्‍त धनराशि की व्‍यवस्‍था
  • सरकार की योजना से संवरने लगी पशुपालकों, कृषक और कुपोषित परिवारों की जिंदगी

लखनऊ । प्रदेश सरकार ने छुट्टा गोवंश के रखरखाव के लिए अनुपूरक बजट में अतिरिक्‍त धनराशि की व्‍यवस्‍था की है। प्रदेश के पशुपालकों, किसानों की सुविधाओं में इजाफा करने और छुट्टा गोवंश की देखभाल करने के लिए अनुपूरक बजट में इस बार खास व्‍यवस्‍था की है। बुधवार को पेश किए गए अनुपूरक बजट में गोवंश के संरक्षण के लिए अधिक अनुपूरक बजट की व्‍यवस्‍था की है।

साल 2017 में जब योगी सरकार ने उत्‍तर प्रदेश की बागडोर संभाली तब से आज तक गौ संरक्षण पर लगातार काम कर रही है। योगी सरकार ने निराश्रित और बेसहारा गोवंश की सुरक्षा के उद्देश्‍य से ठोस योजनाएं बनाकर उनके संरक्षण के लिए पुख्‍ता इंतजाम किए हैं। प्रदेश में पशुपालकों, कृषक और कुपोषित परिवारों को प्रोत्‍साहित करने के उद्देश्‍य से आर्थिक सहायता भी दी जा रही है।

मुख्यमंत्री निराश्रित/बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के तहत इच्छुक कृषकों, पशुपालकों और अति कुपोषित परिवारों को एक-एक गाय व 900 रुपये प्रतिमाह दिये जाने की योजना प्रदेश में योगी सरकार चला रही है। अब तक 43,168 लोगों को 83,203 गोवंश उपलब्ध कराए गए हैं। बता दें कि प्रदेश में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को मिलाकर कुल 5278 अस्थायी व स्थायी गोवंश आश्रय स्थल स्थापित हैं इनमें 5, 86,793 गोवंश संरक्षित हैं।

इतना ही नहीं प्रदेश में मुख्‍यमंत्री गोवंश सहभागिता योजना के तहत प्रदेश के कुपोषित बच्‍चों के परिवारों को गाय दी जा चुकी है। बता दें इस योजना के तहत सीएम ने कुपोषित बच्‍चों के परिवारों को गाय उपलब्‍ध कराने संग उसके भरण पोषण के लिए 900 रुपए प्रतिमाह दिए जाने के निर्देश दिए थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button