छह माह में यूपी के सभी जिलों में मेडिकल कॉलेज : योगी

  • उद्घाटन से पूर्व महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कॉलेज देवरिया का निरीक्षण किया सीएम योगी ने।
  • 1947 से 2016 तक यूपी में थे सिर्फ 12 राजकीय मेडिकल कॉलेज, साढ़े चार साल में ही 32 नए बने।
  • देवरिया के मेडिकल कॉलेज में इसी सत्र से शुरू होगी पढ़ाई : सीएम। 

    देवरिया । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगले छह माह में प्रदेश के सभी 75 जिलों में मेडिकल कॉलेज होंगे। 1947 से 2016 तक उत्तर प्रदेश में सिर्फ 12 राजकीय मेडिकल कॉलेज से जबकि 2017 से 2021 के बीच महज साढ़े चार सालों में 32 नए राजकीय मेडिकल कॉलेज बनाए गए हैं। अबतक 59 जिलों को मेडिकल कॉलेज से आच्छादित कर दिया गया है। केंद्र सरकार के सहयोग और राज्य सरकार खुद के संसाधनों से प्रदेश में मेडिकल कॉलेजों की श्रृंखला खड़ी कर रही है।

    महराजगंज, संतकबीरनगर, मऊ, बलिया जैसे जो 16 जिले शेष हैं वहां यूपी सरकार केंद्र सरकार के सहयोग से पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे। यह केंद्र व राज्य में समान विचारधारा की सरकार होने से संभव हो रहा है। राज्य में महर्षि देवराहा बाबा मेडिकल कॉलेज देवरिया समेत नौ नए राजकीय मेडिकल कॉलेज बनकर तैयार हैं। नेशनल मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के निरीक्षण के बाद अप्रूवल मिलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों इनका लोकार्पण कराया जाएगा।

    सीएम योगी शनिवार को महर्ष देवरहा बाबा मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने के बाद मीडियाकर्मियों से बात कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच-सात साल पहले यह कल्पना भी नहीं की जा सकती थी कि देवरिया में भी मेडिकल कॉलेज होगा। हम आभारी हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जिन्होंने प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना प्रारंभ किया और देवरिया में भी हमें मेडिकल कॉलेज खोलने का मिला।

    उन्होंने कहा कि देवरिया के मेडिकल कॉलेज की लागत 208 करोड रुपए है इसमें से 155 करोड़ रुपए खर्च कर लिए गए हैं। 15 दिसंबर तक सभी निर्माण कार्य पूरे हो जाएंगे। फैकेल्टी के नियुक्त की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। सपोर्टिंग स्टाफ भी पर्याप्त है। निरीक्षण के दौरान अबतक की प्रगति पर संतोष व्यक्त करते हुए सीएम ने कहा कि यहां सब कुछ मेडिकल काउंसिल की गाइडलाइन के मुताबिक है।

    पूर्वी उत्तर प्रदेश को मिलेंगी विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाएं
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों को विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी। कभी पूर्वांचल में बीआरडी मेडिकल कॉलेज ही चिकित्सा सेवा का एकमात्र बड़ा केंद्र था। अब देवरिया, बस्ती, सिद्धार्थनगर में मेडिकल कॉलेज हैं। कुशीनगर में निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाओं वाला एम्स भी गोरखपुर में सेवा देने लगा है। इसका भी उद्घाटन अक्टूबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कराया जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के संकटकाल में देश की आबादी के लिहाज से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में इस वैश्विक महामारी को सफलतापूर्वक नियंत्रित किया गया। इसमें मेडिकल कॉलेजों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। विगत 4 सालों में हमने इंसेफलाइटिस पर भी प्रभावी नियंत्रण किया है। कभी देवरिया भी सर्वाधिक इंसेफेलाइटिस प्रभावित जिलों में से था। अब इससे होने वाली मौतें 95% तक कम हो गई हैं।

     

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button