जीआरपी रेलवे ने नगदी कीमती जेवरात के साथ ट्रॉली बैग महिला को किया वापस

चार दिन पूर्व ट्रेन में छूट गया था रुपये, जेवरात से भरा बैग

गोरखपुर : रेलवे जीआरपी सराहनीय कार्य करते हुए ट्रेन में छुटे नगदी कीमती जेवरात सहित ट्रॉली बैग के साथ महिला को किया वापस गाड़ी संख्या 05047 के गोरखपुर आगमन पर उक्त गाड़ी के कोच संख्या एस-3 में एक नीले रंग का बड़ा ट्राली बैग लावारिस हालत में मिला ऑन ड्यूटी आरपीएफ स्टाफ द्वारा उक्त ट्रॉली बैग को ताला बंद हालत में पोस्ट पर लाकर जमा किया गया। Trolley bag के स्वामी के संबंध में पता करने की कोशिश की गई परंतु कुछ ज्ञात नहीं हो सका.उक्त ट्रॉली बैग पोस्ट पर रखा हुआ था। आज दिनांक 25.5.2021 को मुझ राजेश कुमार सिन्हा/प्रभारी निरीक्षक/रे.सु.ब./गोरखपुर जंक्शन द्वारा उ.नि./दीपिका यादव को आदेशित किया गया कि, उक्त ट्राली बैग में रखे सामानों की इन्वेंटरी बनाकर इसे एलपीओ में जमा कराना सुनिश्चित करें। आदेश के अनुपालन में उक्त उ.नि. द्वारा हे.का./राजेंद्र कुमार के समक्ष ट्राली बैग में लगे ताले को तोड़ा गया। ट्राली बैग खोल कर चेक करने पर निम्न सामग्री/गहने पाया गया-

01- 04 जोड़ी सोने की कान की बाली
02- सोने की 03 अदद अंगूठी
03- सोने के 02 अदद कंगन
04- 01 अदद सोने का मंगलसूत्र
05- 01 अदद सोने का टीका
06- 01 अदद सोने का चक्का
07- 01 अदद चांदी का हंसीया
08 – 01 अदद चांदी का चोटी
09- 02 अदद चांदी का हाथ फूल
कुल कीमती रुपया 250000/-(दो लाख पचास हजार रुपए) मात्र।
10- 07 जोड़ी नया लेडीज सूटग कीमती रुपया-40000/-(चालिस हजार रुपए) मात्र
11- 1 जोड़ी पैंट शर्ट व 1 जोड़ी कुर्ता पायजामा कीमती रुपया 4000/-(चार हजार रुपए) मात्र
कुल कीमती रुपया 294000/- मिला।

ट्राली बैग में आपसा खातून का एक आधार कार्ड व एक डायरी मिला, जिस पर मोबाइल नंबर 7605864014 पाया गया। मोबाइल नंबर पर फोन करने पर फोन रिसीव करने वाले व्यक्ति द्वारा अपना नाम पता सरफराज आलम सिद्दीकी पुत्र स्वर्गीय युनूस अली निवासी 45/एच/7, कार्ल मार्क्स सरानी, खिदिरपुर, कोलकाता पश्चिम बंगाल पिन नंबर 700025 बताया गया। पूछने पर यह भी बताएं कि दिनांक 23.02.2021 को मैं अपनी पत्नी के साथ गाड़ी संख्या 05047 के कोच संख्या एस-3 में कोलकाता से देवरिया तक यात्रा कर रहा था। गाड़ी से देवरिया में उतरते समय मेरा एक ट्रॉली बैग गाड़ी में ही छूट गया था। मेरे द्वारा अपने स्तर से ट्रॉली बैग की खोजबीन किया गया था, नहीं मिलने के कारण मैं एवं मेरा परिवार निराश हो गया था। मैं वर्तमान समय में अपने ससुराल ग्राम मदारी पट्टी, पिपरहिया, कसिया, भलुही मदारी पट्टी, जिला कुशीनगर में हूं। मैं अपने खोए हुए सामान की पहचान हेतु शीघ्र आरपीएफ पोस्ट गोरखपुर आ रहा हूं।

उक्त व्यक्ति अपनी पत्नी आपसा खातून के साथ आज दिनांक 25.5.2021 को आरपीएफ /गोरखपुर जंक्शन उपस्थित हुए। उनसे ट्राली बैग में रखे सामानों के बाबद पूछताछ किया गया तथा ट्राली बैग व उसमें रखे सामानों की पहचान कराई गई। उपरोक्त ट्राली बैग एवं उसमें रखें कपड़ों एवं आभूषणों को अपना होना बताया। बाद होने इत्मीनान उ.नि./दीपिका यादव द्वारा सुपुर्दगी नामा तैयार कर सभी सामग्री ठीक ठीक समय 20:00 उपरोक्त को सुपुर्द किया गया। सामग्री/आभूषण प्राप्ति के उपरांत उपरोक्त द्वारा यह कहते हुए कि- जिस दिन सामान खोया था उस दिन भी रोया था ,और आज भी समान मिलने पर रोया हूं परंतु दोनों आंसू में फर्क है, खोने पर दुख के आंसू निकले थे मिलने पर खुशी के आंसू निकले हैं. आरपीएफ की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए धन्यवाद दिया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button