यूपी में 8820 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों का निर्माण कार्य हुआ पूरा

प्रदेश के 106128 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों में प्री स्‍कूल किटस का किया गया वितरण , आंगनबाड़ी केन्‍द्रों के कायाकल्‍प पर योगी सरकार का विशेष जोर , मुख्यमंत्री बुधवार को कानपुर में स्वयं करेंगे किट्स का वितरण .

लखनऊ । प्रदेश की बागडोर संभालते ही मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने आंगनबाड़ी केन्‍द्रों के कायाकल्‍प पर विशेष जोर दिया जिससे योजनाओं का लाभ सबको मिल सके। यूपी के 170896 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों में शिक्षा एवं प्रशिक्षण (ईसीसीई) के सुचारू क्रियान्‍वन के लिए पहल पुस्‍तिका, प्री स्‍कूल किट, बाल मूल्‍याकंन कार्ड के संग आंगनबाड़ी केन्‍द्र भवन का निर्माण कराया जा रहा है।

बाल विकास सेवा एवं पुष्‍टाहार विभाग की ओर से प्रदेश के आंगनबाड़ी केन्‍द्रों में नई शिक्षा नीति 2020 के तहत शिक्षा एवं प्रशिक्षण (ईसीसीई) में 44 जनपदों के 106128 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों में प्री स्‍कूल किटस का वितरण किया गया है। इसके साथ ही खेल और गतिविधी आधारित अधिगम को सुनिश्चित करने के लिए केन्‍द्र पर आने वाले 03 से 06 साल के बच्‍चों के लिए बाल उपयुक्‍त कहानी की किताबें परियोजना कार्यालय पर उपलब्‍ध कराने का कार्य नेशनल बुक ट्रस्‍ट द्वारा शुरू कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी बुधवार को कानपुर में स्वयं प्री स्कूल किट्स का वितरण करेंगे 

आगंनबाड़ी केद्रों पर ईसीसीई की ग‍तिविधियों के क्रियान्‍वन को सुगम बनाने के लिए आईसीडीएस द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के लिए ‘पहल’ नाम की एक ईसीसीई मैन्‍युल बनाई गई है। इस मैन्‍युल का निर्माण एससीईआरटी द्वारा विकसित पाठ्यक्रम के अनुसार किया गया है जिसको 44 जनपदों में पहुंचाया जा चुका है। आंगनबाड़ी केन्‍द्र पर आने वाले 03 से 06 साल के बच्‍चों के अर्धवार्षिक मूल्‍याकंन के लिए वर्ग के अनुसार व्‍यक्तिगत मूल्‍याकंन कार्ड प्रदेश के 44 जनपदों में पहुंच गए है।

8820 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों का निर्माण कार्य हुआ पूरा

प्रदेश में आंगनबाड़ी केन्‍द्रों के भवन का निर्माण भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार मनरेगा, पंचायती राज, एवं बाल विकास एवं पुष्‍टाहार के कन्‍वर्जेन्‍स के जरिए कराया जा रहा है। चार सालों में कुल 10187 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों के निर्माण का लक्ष्‍य था जिसके सापेक्ष 8820 आंगनबाड़ी केन्‍द्रों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। 1367 निर्माणाधीन हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button