तीसरी पारी में भी कोरोना को हराने की मुकम्मल तैयारी

लखनऊ 5 जून | यूपी में पहली पारी की तरह दूसरी पारी में भी कोरोना की हार सुनिश्चित है। आंकड़े भी इसकी तस्दीक करते हैं। मसलन पीक से सक्रिय रोगियों की संख्या मात्र 36 दिनों में 94 फीसद घट गई है। 30 अप्रैल को यह 3 लाख 10 हजार 783 थी। अब ये संख्या घटकर 19,438 पर आ गई है। रिकवरी रेट लगातार सुधरते हुए 97.6 फीसद की ऊंचाई पर है।

पीक पर 24 घंटे में आने वाले संक्रमण की संख्या 38055 से घटकर 1092 पर आ गई है। अब प्रदेश के सिर्फ पांच जिले ऐसे है, जिनमें सक्रिय रोगियों की संख्या 600 से अधिक हैं। पूरी उम्मीद है कि शनिवार और रविवार की पाबंदी के बाद ये भी आंशिक कोरोना कर्फ्यू के दायरे से बाहर होंगे। ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट को मूल मंत्र मानते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई में उनकी पूरी टीम ने कोरोना के दूसरे चरण की कठिन चुनौती का सामना किया।

बेहतरीन नतीजे सबके सामने हैं। देश-दुनिया (विश्व स्वास्थ्य संगठन, नीति आयोग, मुंबई और प्रयागराज हाईकोर्ट) कोरोना प्रबंधन के योगी मॉडल की तारीफ कर रही है। पहले चरण की तुलना में 30 से 50 फीसद संक्रामक कोरोना के दूसरे चरण को बैकफुट पर लाने के साथ योगी सरकार तीसरे चरण पर जीत का पुख्ता इंतजाम कर रही है।

बच्चों की सुरक्षा पर पूरा फोकस

संभावना जताई जा रही है कि कोरोना की तीसरी लहर के प्रति बच्चे अपेक्षाकृत अधिक संवेदनशील होंगे। लिहाजा तैयारियों के केंद्र में भी बच्चे ही हैं। इस बाबत सीएम योगी का साफ निर्देश है कि सभी मेडिकल कॉलेजों में पीआईसीयू (पीकू) और एनआईसीयू की स्थापना को तेजी से पूरा किया जाए। इनमें 100-100 बेड के पीआईसीयू और 50 /50 बेड के एनआईसीयू भी हों। इसी तरह जिला अस्पताल और सीएचसी स्तर पर भी मिनी पीकू स्थापित किए जा रहे हैं। ये सारे काम और जरूरत पर इनके लिए प्रशिक्षित मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए प्रशिक्षण के कार्यक्रम तेजी से चल रहे हैं।

टीकाकारण को सर्वोच्च प्राथमिकता

यकीनन कोरोना को जीतने का सबसे प्रभावी हथियार टीकाकरण ही है। लिहाजा योगी सरकार का पूरा जोर टीकाकरण पर है। इस क्रम में अब तक प्रदेश में वैक्सिन के 01 करोड़ 98 लाख 38 हजार 187 डोज लगाए जा चुके हैं। सोमवार से महिलाओं के लिए जिला अस्पताल और संयुक्त जिला चिकित्सालयों में टीकाकरण के अलग बूथ होंगे। जिनके बच्चे 12 साल से कम हैं उनके, मीडियाकर्मियों व उनके परिजनों और संक्रमण के प्रति संवेदनशील वर्गों के लिए फोकस्ड वैक्सिनेशन का निर्देश पहले ही सीएम योगी की ओर से दिया जा चुका है। यह हो भी रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button