पीड़ित से ही मांगे जा रहे आरोपियों के भूमि के दस्तावेज 

शरद गुप्ता

पीपीगंज / गोरखपुर। पीपीगंज नगर पंचायत क्षेत्र में एक रिटायर अधिकारी की जमीन की चौहद्दी को अपना बताकर बेचने के मामले में पीड़ित से ही सभी दस्तावेज मांगे जा रहे हैं, जबकि पीड़ित पक्ष ने सभी सबूतों और गवाहों को नायब तहसीलदार के सामने पेश किया था। इतना ही नहीं, पीड़ित पक्ष से उस जमीन के भी कागजात मांगे जा रहे हैं, जिसे आरोपियों ने खरीदा है।

मामले में पुलिस और तहसील प्रशासन की भूमिका पर अब सवाल उठने लगे हैं। पीपीगंज के साहबगंज निवासी रिटायर अधिकारी लाल बहादुर प्रसाद जायसवाल ने करीब पांच दिन पूर्व मामले को लेकर डीएम के विजयेंद्र पांडियन से शिकायत की थी। डीएम के आदेश पर एसडीएम ने नायब तहसीलदार को जांच के लिए मंगलवार को पीपीगंज थाने भेजा था। इसमें सभी पक्षों को एक दिन पूर्व ही थाने पर बुलाया गया था, लेकिन जमीन खरीदने वाला सपा नेता वार्ड नंबर चार निवासी फिरोज अली नहीं पहुंचा।

नायब तहसीलदार की मौजूदगी में वादी पक्ष ने सबूतों के साथ अपनी बात रखी और गवाह भी पेश किए। गवाहों ने नायब तहसीलदार के सामने रिटायर अधिकारी की चौहद्दी को तस्दीक किया। साथ ही कपूर चंद ने रजिस्ट्री में सबके सामने चौहद्दी गलत होने की बात स्वीकार की थी। इस बाबत भी लोगों ने गवाही दी कि उनके सामने कपूर चंद ने यह बात कही थी, लेकिन अब वह मुकर रहा है।

मामले की सुनवाई और दस्तावेजों को देखने के बाद नायब तहसीलदार ने जमीन से जुड़े अन्य दस्तावेज गलत चौहद्दी दिखाकर जमीन बेचने वाले आरोपी और वार्ड नंबर नौ निवासी कपूर चंद को देने के निर्देश दिए थे। मौके पर ही कपूर चंद ने सभी दस्तावेज फिरोज अली को देने की बात कही। जबकि एसडीएम के निर्देश पर बुधवार को थाने पहुंचे फिरोज अली ने कपूर चंद पर ही आरोप लगाया कि उन्होंने मुझे इस जमीन से संबंधित अन्य कोई दस्तावेज नहीं दिए हैं।

लेखपाल प्रवीण पांडेय ने बुधवार को पीड़ित को फोन कर जमीन से संबंधित अन्य दस्तावेजों की मांग की। पीड़ित ने उन्हें फोन पर बताया कि अपने जमीन से संबंधित सभी दस्तावेज हम दे चुके हैं। इस पर उन्होंने नायब तहसीलदार से बात करने की बात कही। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर जिस प्रकार से प्रदेश में भूमाफिया पर कार्यवाही हो रही है, उसमें कैंपियरगंज तहसील प्रशासन फेल नजर आ रहा है। क्षेत्र के लोग भूमाफिया के आतंक से तबाह हैं, लेकिन थाना स्तर या तहसील स्तर पर भूमाफिया पर कोई कार्यवाही नहीं होने से लोग मिलीभगत के आरोप लगा रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button