सभी ब्लॉकों में की जा रही ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की व्यवस्था,हर पांच किमी पर मिलेगी कोविड केयर की सुविधा

किसी भी हालत से मुकाबले के लिए तेजी से बढ़ाए जा रहे संसाधन ,कोविड के दूसरे लहर में संक्रमण की रफ्तार पहली लहर से 30 से 50 गुना अधिक रही। इसे इस आंकड़े से समझा जा सकता है कि पहली लहर में जिले में एक दिन के संक्रमित मिले लोगों की सर्वाधिक संख्या 420 थी जबकि दूसरी लहर में 1440 लोग एक दिन (25 अप्रैल) में ।

  • शरद गुप्ता

गोरखपुर । कोविड के सेकेंड वेव के शुरुआत यानी अप्रैल के पहले सप्ताह में गोरखपुर में बीआरडी के 500 बेड वाले डेडिकेटेड कोविड अस्पताल के अलावा 10 निजी अस्पतालों में करीब 400 बेड पर ही संक्रमितों के इलाज की सुविधा थी। अब कोविड संक्रमितों के इलाज के लिए 47 अस्पतालों में 2100 से अधिक बेड की सुविधा उपलब्ध है और इन अस्पतालों में बेड भी खाली मिल जा रहे हैं।

जल्द ही 700 से अधिक बेड और होंगे उपलब्ध

सीएम योगी के आदेश पर कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए गोरखपुर में डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है। जल्द ही जिले में कोविड मरीजों के इलाज हेतु 700 से अधिक बेड और उपलब्ध हो जाएंगे। विमान निर्माता कंपनी बोइंग के सहयोग से यूपी सरकार एम्स और गोरखनाथ आयुर्वेदिक कॉलेज में 200-200 बेड का डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बना रही है तो वीर बहादुर सिंह स्पोर्ट्स कॉलेज में बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सहयोग से 100 बेड का हॉस्पिटल बनेगा। सरकार बड़हलगंज के होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज में 100 बेड, चौरीचौरा सीएचसी पर 50 और हरनही सीएचसी पर 50 बेड का कोविड अस्पताल क्रियाशील कर रही है।

ब्लॉक स्तर पर ही ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की रणनीति

कोविड के सेकंड वेव में संक्रमण की रफ्तार तेज होने से ऑक्सीजन को मांग अचानक काफी बढ़ गई थी। अप्रैल माह के शुरुआती दिनों में गोरखपुर के गीडा में मोदी केमिकल्स और आरके ऑक्सीजन के प्लांटों में औसतन 2000 सिलेंडर ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा था। सरकार की पहल के बाद अब यहां ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता 8000 सिलेंडर प्रतिदिन की हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन से शनिवार को 40 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति मिली। सरकार के निर्देश के बाद जिला प्रशासन 20 स्थानों पर ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगवाने की तैयारी में जुट है ताकि आने वाले दिनों में ब्लॉक स्तर पर ही ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा सके। जितने भी नए कोविड अस्पताल बन रहे हैं, वहां उनका खुद का ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट तैयार कराया जा रहा है।

तीसरे वेव को लेकर मध्य जून तक पूरी हो जाएगी तैयारी

विशेषज्ञ इस बात की आशंका जता रहे हैं कि कोविड का तीसरा वेव जुलाई अगस्त तक दस्तक दे सकता है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरे प्रदेश में समय पूर्व तैयारी का आदेश दे रखा है।

हर ब्लॉक में मध्य जून तक 50 बेड का लक्ष्य

प्रशासन ने जून मध्य तक हर ब्लॉक में कम से कम 50 बेड के सभी सुविधाओं से युक्त डेडिकेटेड कोविड अस्पताल का लक्ष्य तय किया है। गोरखपुर के जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन का मानना है कि 15 जून तक हम इस स्थिति में होंगे कि शहर हो या देहात हर पांच किलोमीटर पर कोविड केयर की सुविधा उपलब्ध करा सकेंगे। तीसरे वेव में बच्चों और महिलाओं को लेकर इंतजामों पर खासा जोर दिया जा रहा है। जून मध्य तक जिले में पांच हजार कोविड बेड की सुविधा सुनिश्चित होने की संभावना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button