बलिया में दवा घोटाले में संलिप्तता के सवाल पर कुर्सी छोड़ गए सीएमओ

कहा नहीं हुआ है कोई घोटाला, किसी दबाव में उठाई जा रही उंगली , डिप्टी सीएमओ ने नहीं दिया स्पष्टीकरण, जांच में होगा साफ

विजय बक्सरी

बलिया: बलिया में सीएमओ के अधीन केंद्रीय औषधी भंडार में फर्जी आईडी से करीब चार करोड़ के दवा खरीद व घोटाले के मामले में डिप्टी सीएमओ डा. जीपी चैधरी के उठाएं गए मामले को लेकर जब बुधवार को पत्रकारों ने सीएमओ पीके मिश्रा से उनकी संलिप्तता को लेकर स्पष्टीकरण जानना चाहा तो वे कुर्सी छोड़ उठ गए और फिर मामले से संबंधित किसी तरह के सवाल का जवाब दिए जाने से परहेज करने लगे। जिसके बाद सीएमओ सीधे अपनी गाड़ी में बैठ जिला मुख्यालय को रवाना हो गए। बलिया सीएमओ पीके मिश्रा बुधवार को बिल्थरारोड के सीयर सीएचसी पर अचानक औचक निरीक्षण को पहुंचे। अस्पताल के चिकित्सकीय व्यवस्था का जायजा लेने के बाद वे पत्रकारों से मुखातिब थे। सीएमओ ने डा. पीके मिश्र ने कहा कि बलिया में केंद्रीय औषधी भंडार में फर्जी आईडी बनाकर चार करोड़ के दवा घोटाले का मामला पूरी तरह से गलत है। उन्होंने मामले से संबंधित पत्र को सोशल मीडिया पर वायरल किए जाने पर भी नाराजगी जताई। कहा कि डिप्टी सीएमओ व सीयर सीएचसी अधीक्षक डा. जीपी चैधरी ने किसी दबाव में गलत तरीके से घोटाला किए जाने संबंधित शिकायत की जांच का मामला उठाया है। जिसे लेकर डिप्टी सीएमओ को स्पष्टीकरण संबंधित नोटिस दिया गया है। जिसका अब तक जवाब नहीं मिला है। मामले में डिप्टी सीएमओ द्वारा उक्त कथित घोटाले में सीएमओ के ही संलिप्त होने के आरोप को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि यह मामला जांच का है और जांच के बाद स्पष्ट हो जायेगा कि मामले में कौन संलिप्त है। सीएमओ ने सीयर सीएचसी पर व्याप्त साफ-सफाई में घोर लापरवाही पर नाराजगी जताई और इमरजेंसी चिकित्सक सेवा, मरीज वार्ड, एक्सरे रूम, ओटी का भी निरीक्षण किया और आवश्यक दिशा निर्देश दिए। मालूम हो कि सीएमओ के अधीन केंद्रीय औषधी भंडार में फर्जी आईडी बनाकर जीएम पोर्टल पर चार करोड़ रुपए का इंडेट कर घोटाला करने की शिकायत उपमुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. जीपी चैधरी ने पिछले दिनों किया था। डिप्टी सीएमओ डा. जीपी चैधरी ने गत 28 मई 2020 को स्वास्थ्य विभाग व उच्चाधिकारियों को पत्र भेजकर घोटाले का सिलसिलेवार उल्लेख किया था। सीएमओ पीके मिश्रा द्वारा शिकायतकर्ता डिप्टी ससीएमओ द्वारा अनुशासनहीनता करने एवं मामले में स्पष्टीकरण दिए जाने संबंधित नोटिस दिए जाने के बाद डिप्टी सीएमओ पर ही कार्रवाई की मानो तलवार लटक सी गई है। यह भी स्पष्ट है कि सीयर सीएचसी के ही अधीक्षक डा. जीपी चैधरी जनपद में डिप्टी सीएमओ भी रहे है। जिन्होंने गत दिनों उच्चाधिकारियों को पत्र भेजकर अपने कार्यकाल के दौरान बलिया अस्पताल में फर्जी आईडी से चार करोड़ की दवा खरीदने व घोटाला किए जाने की जांच की मांग किया था। जिसके बाद से ही स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारियाों के निशाने पर उक्त अधीक्षक हो गए है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button