बलिया- खरीद -दरौली घाट पर निर्माणाधीन पुल की होगी जांच ,4 सदस्य कमेटी गठित

उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य ने सीधे संज्ञान में लिया

सिकन्दरपुर (बलिया): उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य ने बलिया में पुल निर्माण में हो रहे अनियमितता को सीधे संज्ञान में लिया है। उत्तर प्रदेश एवं बिहार को जोड़ने वाले खरीद -दरौली घाट पर निर्माणाधीन पक्का पुल के दो पिलर के टेढ़े होने की सूचना पर डिप्टी सीएम ने उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम द्वारा हो रहे पुल निर्माण के दौरान ही पिलर्स के टेढ़े होने के कारणों की तकनीकी जांच एवं कार्यों में की गई लापरवाही की जिम्मेदारी तय करने मुख्य अभियंता सेतु ,लोक निर्माण विभाग की अध्यक्षता में 4 सदस्य कमेटी का गठन किया गया है। जिसमें सुनील कुमार, महाप्रबंधक उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम गोरखपुर, दीपक गोविल ,मुख्य परियोजना प्रबंधक उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम ,वाराणसी ,देवेंद्र सिंह मुख्य परियोजना प्रबंधक उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम बरेली को सदस्य नामित किया गया है । समिति को निर्देश दिए गए हैं कि वह अपनी तथ्यात्मक जांच आख्या एक सप्ताह के अंदर शासन को उपलब्ध कराए।

दिसम्बर, 2016 से शुरू है पुल का निर्माण

यूपी-बिहार को जोड़ने के लिए सिकंदरपुर तहसील क्षेत्र में खरीद-दरौली पुल की घोषणा अप्रैल, 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने की थी। तब वे तत्कालीन विधायक मोहम्मद रिजवी के घर एक कार्यक्रम में आए थे। लोक निर्माण विभाग द्वारा 162 करोड रुपए का इस्टीमेट बनाया गया था, जिस पर सितंबर, 2016 में पहली किश्त के रूप में 17 करोड़ रुपए जारी हुआ। वर्ष 2016 के दिसंबर महीने में ही इसका शिलान्यास भी हुआ। इसके निर्माण की जिम्मेदारी सेतु निगम को दी गई। हालांकि शुरू से ही कार्य की रफ्तार काफी धीमी रही है। इसके बाद यह कार्य सेतु निगम से छीन पंजाब की एक कन्स्ट्रक्शन कम्पनी को दे दिया गया। अब पायों के तिरछा होने से निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर ही सवालिया निशान खड़ा हो गया है। अब यह देखना होगा कि जांच बैठने के बाद कार्रवाई की जद में कौन-कौन दोषी आते हैं। वहीं, जांच कमेटी बैठने की जानकारी मिलने पर पूर्व मंत्री रिजवी ने कहा कि इसकी निष्पक्ष जांच हो और जनता के पैसे से खिलवाड़ करने वाले दोषियों पर सख्त कार्रवाई हो।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button